National Hindi Samachar Patra

Very interesting and truthfull……

0 25

उत्तर प्रदेश जनपद फैजाबाद
द्वारा
दैनिक मधुर दर्पण समाचार
पूर्व उपजिलाधिकारी सुरेन्द्रदत्त सिंह

उत्तर प्रदेश जनपद फैजाबाद:—आप पसीने से तर बतर हैं। बहुत प्यासे, पर कहीं भी पानी नहीं मिल सकता है। ऐसे में तुम वृक्ष की छाया में थकान मिटाने के लिए खड़े होते हो!

तभी सामने की एक इमारत की पहली मंजिल की खिड़की खुलती है और आपकी उस व्यक्ति से आंखे मिलती है। आपकी स्थिति देखकर, वह व्यक्ति हाथ के इशारे से आपको पानी के लिए पूछता है। अब आपकी उस व्यक्ति के बारे में कैसी राय होगी?

यह आपकी पहली राय है!

आदमी नीचे आने का इशारा करता है और खिड़की बंद कर देता है। नीचे का दरवाजा 15 मिनट बाद भी नहीं खुलता। अब उस व्यक्ति के बारे में आपकी क्या राय है?

यह आपकी दूसरी राय है!

थोड़ी देर बाद दरवाजा खुलता है और आदमी कहता है: ‘मुझे देरी के लिए खेद है, लेकिन आपकी हालत देखकर, मैंने आपको पानी के बजाय नींबू पानी देना सबसे अच्छा समझा! इसलिए थोड़ा लंबा समय लगा! ‘

अब उस व्यक्ति के बारे में आपकी क्या राय है?

याद रखें कि आपको अभी तक कोई पानी या शर्बत नहीं मिला है और अपनी तीसरी राय को ध्यान में रखें।

अब जैसे ही आप शर्बत को अपनी जीभ पर लगाते हैं, आपको पता चलता है कि इसमें चीनी नहीं है।

अब आप उस व्यक्ति के बारे में कैसा महसूस करते हैं?

आपके चेहरे को खट्टेपन से भरा हुआ देखकर, व्यक्ति धीरे से चीनी का एक पाऊच निकालता है और कहता है, आप जितना चाहें उतना डाल लें।

अब उसी व्यक्ति के बारे में आपकी क्या राय होगी?

एक सामान्य स्थिति में भी, अगर हमारी राय इतनी खोखली है और लगातार बदलती जा रही है, तो क्या हम किसी भी बारे में राय देने के लायक है या नहीं!

वास्तव में, दुनिया में इतना समझ आया कि अगर कोई व्यक्ति आपकी अपेक्षाओं के अनुरूप व्यवहार करता है तो वह अच्छा है अन्यथा वह बुरा है!

दिलचस्प बिंदु है स्वयं विचार करें..
🌷सुप्रभात 🌷

Leave A Reply

Your email address will not be published.